अस्थमा के लिए योग -Yoga for Asthma in Hindi.

दमा अर्थात अस्थमा फेफड़ो से समबन्धि रोग है आज हम हमारे इस लेख अस्थमा के लिए योग (Yoga for Asthma in Hindi ) में ऐसे आसनों अर्थात योग क्रियाओं के बारे में जानेंगे जिन्हें दमा अर्थात अस्थमा के मरीज भी कर सकते हैं | अस्थमा से ग्रसित मरीज को धूल, धुएं वाले वातावरण में सांस लेने में बेहद तकलीफ होने लगती है अर्थात ऐसी जगह जहाँ ऑक्सीजन की कमी हो अस्थमा या दमा से ग्रसित रोगी को काफी परेशानी होने लगती है | ऐसे में अक्सर रोगी ऐसे योगासनों की तलाश में रहते हैं जो उन्हें इस रोग को नियंत्रित रखने या कम करने में सहायक हों | इसी बात के मद्देनज़र आज हमारे इस लेख का लक्ष्य Yoga For Asthma in Hindi के माध्यम से ऐसी योग क्रियाओं के बारे में जानने का है जो इस रोग को नियंत्रित या कम करने में सहायक हैं या इस रोग के बावजूद इस प्रकार की योग क्रियाएं की जा सकती हैं |

  1. अस्थमा के लिए योग शलभासन:

Yoga for Asthma in Hindi में अर्थात अस्थमा के लिए योग में पहला आसन शलभासन है इसे करने के लिए  सबसे पहले पेट के बल जमीन पर लेटना होता है | और उसके बाद रीढ़ की हड्डी अर्थात मेरुदंड को मोड़कर पैरों को आसमान की तरफ उठाना होता है अत: इस पद्यति में हाथों की स्थिति, सीने का अगला हिस्सा एवं ठुड्डी जमीन को टच करती हुई होती है | उसके बाद पैरों को धीरे धीरे आसमान की तरफ उठाना होता है ताकि रीढ़ की हड्डी बीच में से मुड़ जाय पैरों के तलवे आकाश की और एवं एड़ी का अगर भाग सिर की तरफ झुका हुआ होना चाहिए | चूँकि यह करने में थोड़ा कठिन होता है इसलिए इसे पूर्ण रूप से अंजाम तक पहुँचाने के लिए अभ्यास की आवश्यकता होती है और इसमें समय लगता है |

Yoga-for-asthma-salbhsana

  1. धनुरासन:

अस्थमा के लिए योग में दूसरा आसन का नाम धनुरासन है, इस आसन को करने के लिए पेट के बल जमीन पर लेटना पड़ता है घुटनों से पैरों को मोड़ते हुए दोनों हाथो से पैरों को एडियों के पास पकड़ना होता है | यह क्रिया करते वक्त अग्रभाग सिर एवं सीने को ऊपर उठाना पड़ता है | अब हाथों को सीधा रखते हुए पैरों की मांसपेशियों में तनाव पैदा करते हुए खींचते हैं |

Asthma-ke-liye-yog-Dhanurasan

 

  1. वीरासन :

Yoga For Asthma in Hindi में तीसरा आसन वीरासन है, हालांकि वीरासन की कई विधियाँ प्रचलित हैं लेकिन यहाँ पर हम एक विधि का वर्णन कर रहे हैं |वीरासन करने के लिए व्यक्ति को वज्रासन में बैठना पड़ता है लेकिन नितम्बों को जमीन पर स्थिर रखना पड़ता है एड़ी एवं तलबों को नितम्बो के बगल में रखें | इस तरह से बगल में रखें की एक तलवे की दुसरे तलवे से दूरी लगभग एक डेढ़ फीट हो | अब हाथों को घुटनों के ऊपर ज्ञानमुद्र की अवस्था में रखें पीठ सीढ़ी रखें गहरी सांस लेते हुए उसी स्थिति में थोड़ी देर रुकें अब दोनों हाथों को सिर के ऊपर सीधे तानें और सांस लें एवं छोड़े |

asthma ke liye yog

 

  1. पर्यकासन :

अस्थमा के लिए योग में चौथा आसन पर्यकासन है इसे करने के लिए अस्थमा के रोगी को सामने की तरफ पैरों को फैलाकर बैठना होगा | उसके बाद बाएं पैर को बाई तरफ ले जाकर घुटना मोड़ना होगा फिर बाई तरफ लेटकर योग करने वाले व्यक्ति को बायाँ हाथ बाएं पैर पर रखना होगा हाथ इस तरह से रखना होगा जैसे तकिया सा बना हुआ महसूस हो उसके बाद दाहिना पैर सीधे सामने की तरफ फैलाना होगा और दाहिने हाथ को दाहिने पैर की जांघ पर रखना होगा |

Yoga-for-asthma-Paryankasana

  1. अस्थमा के लिए योग पश्चिमोत्तानासन:

Yoga For Asthma in Hindi में पांचवा आसन पश्चिमोत्तानासन है इस आसन अर्थात पश्चिमोत्तानासन को करने के लिए जमीन पर बैठ जाएँ और दोनों पैरों को लम्बाई में आगे की तरफ करें | अब सांस छोड़ें और धीरे धीरे आगे की तरफ झुकते चले जाएँ अब दोनों हाथों की अँगुलियों से दोनों पैरों के अंगूठों को छूने की कोशिश करें लेकिन याद रहे पैरों को ढीला न करें अर्थात पैरों को तानकर रखें और इस स्थिति में घुटनों को भी नहीं उठने दें अब धीरे धीरे सिर को घुटनों में स्पर्श कराने की कोशिश करें जब इसका अच्छी तरह अभ्यास हो जाता है तो पीठ उठी हुई नहीं रहती है अपितु समतल हो जाती है |

अस्थमा के लिए योग -Paschimattanasana

  1. नाड़ी शोधन प्राणायाम:

अस्थमा के लिए योग में अगला नंबर योगासन का नहीं बल्कि प्राणायाम का है इस प्राणायाम को अनुलोम विलोम प्रणायाम भी कहते हैं इस प्राणायाम को करने की भी अनेक विधियाँ प्रचलित हैं | और यह प्राणायाम इतना आम है की हर कोई सुबह सुबह टेलीविज़न में बाबा रामदेव इत्यादि को देखकर आसानी से यह कर सकता है |

यह भी पढ़ें:

योग के बारे में प्रचलित भ्रांतियां एवं तथ्य |

योगा की सावधानियां एवं नियमों की जानकारी |

पीरियड्स के दौरान किये जाने वाले योगासन |  

  1. सूर्य भेदन प्राणायाम :

Yoga For Asthma in Hindi में अगला अर्थात सांतवा नंबर भी प्रणायाम का है इस प्रणायाम का नाम है सूर्य भेदन प्राणायाम इसे करने के लिए व्यक्ति को सुखासन में बैठना पड़ता है | बाएं नाक के द्वार को बंद करके दायें नाक के द्वार से लम्बी सांस लेनी पड़ती है | अपनी शक्ति के अनुसार कुम्भक करने के बाद बंद हटा दिया जाता है बाएं नाक से रेचक किया जाता है |

इसके अलावा शीर्षासन, सर्वांगासन, भुजंगासन, उष्ट्रासन इत्यादि जिनका जिक्र हम अपने पिछले लेख ‘डायबिटीज के लिए योग’’ में कर चुके हैं अस्थमा के लिए योग की लिस्ट में सम्मिलित हैं |  

Disclaimer:

Health Information In Hindi यह सुनिश्चित करने का हर संभव प्रयत्न करता है, की इसके द्वारा दी जाने वाली जानकारी सटीक एवं वास्तविक हो, लेकिन दी गई किसी भी जानकारी को चिकित्सकीय अनुसन्धान या अन्य किसी अनुसन्धान का वर्तमान प्रतिबिम्ब नहीं माना जाना चाहिए | क्योंकि ये निरंतर बदलती रहती हैं यदि कोई भी पाठक गण किसी भी समस्या से ग्रसित हैं तो उन्हें समबन्धित क्षेत्र के विशेषज्ञों चिकित्सकों की सलाह लेनी चाहिए | Health Information in Hindi अपनी वेबसाइट के माध्यम से दी जाने वाली जानकारी या इस वेबसाइट के माध्यम से दिए गए किसी तृतीय पक्ष के वेबसाइट के लिंक, की जानकारी में चूक/त्रुटी के कारण होने वाले किसी भी प्रकार के नुकसान या क्षति के लिए उत्तरदायी नहीं होगा |

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *