Category: कैंसर

Liver Cancer- यकृत कैंसर की जानकारी |

Liver Cancer को हिन्दी में यकृत का कैंसर भी कहा जा सकता है यकृत मानव शरीर का एक अहम् अंग है जो शरीर की शर्करा एवं चर्बी को नियंत्रित करने का कार्य करता है | यह ऐसे प्रोटीन का भी निर्माण करते हैं जिनकी उपस्थिति रुधिर में बेहद आवश्यक होती है कुछ प्रोटीन ऐसे भी होते हैं जो रुधिर को ज़माने में सहायक होते हैं अर्थात ये प्रोटीन अधिक खून बहने से रोकथाम करते हैं | पेट के अन्दर जाने वाले नुकसान दायक पदार्थों को लीवर द्वारा नष्ट कर लिया जाता है और बाद में ये पदार्थ द्रव्य रूप में रूपांतरित होकर मूत्र एवं मल के त्रौर पर शरीर से बाहर निकलते हैं | Liver Cancer से अभिप्राय शरीर के अन्दर यकृत में होने वाली उस प्रक्रिया से है जब यकृत के किसी हिस्से में असमान्य कोशिकाओं का जन्म होता है और वे अनियंत्रित गति से बढ़ने लगती हैं अर्थात लीवर में असाधारण कोशिकाओं की उत्पति ही Liver Cancer कहलाती है | Some main Cause of Liver Cancer in Hindi: हालांकि यकृत का कैंसर होने के सही कारण अभी तक ज्ञात नहीं है लेकिन कुछ मुख्य घटक ऐसे है जिनसे Liver Cancer होने का खतरा बढ़ जाता है |
Read More

Mammogram Test

Mammogram नामक यह परीक्षण महिलाओं के स्वास्थ्य से जुड़ा हुआ एक बहुत ही महत्वपूर्ण परीक्षण है | इस जांच के दौरान महिलाओं के स्तनों का एक्स रे महिला के स्तनों में स्तन कैंसर का पता करने के लिए किया जाता है | इसलिए ऐसा बिलकुल नहीं है की चिकित्सक द्वारा किसी भी महिला को ऐसे ही Mammogram test करने के लिए नहीं कहा जायेगा बल्कि ऐसी महिलाओं को ही यह परीक्षण करने का सुझाव दिया जायेगा जिनमे स्तन कैंसर नामक बीमारी के कुछ लक्षण दिखाई देते हों | यद्यपि Mammogram का एक रूप Screening Mammography होती है यह तब भी की जा सकती है जब महिला में इस प्रकार की बीमारी के कोई लक्षण न दिख रहे हों Screening Mammography को स्तन कैंसर के विरुद्ध उठाया गया पूर्वकदम कह सकते हैं क्योकि इस परीक्षण के कारण स्तन कैंसर जल्दी पकड़ में आता है और उसका इलाज भी जल्दी ही शुरू हो जाता है, इसलिए इसकी वजह से स्तन कैंसर से होने वाली महिलाओं की मौतों की संख्या में काफी कमी आई है | मेम्मोग्राम के फायदे (Advantage of Mammogram in Hindi): जैसा की हम उपर्युक्त वाक्य में बता चुके हैं की स्तन कैंसर से होने वाली महिलाओं की मौतों
Read More

कैंसर से बचने के कुछ मुख्य उपाय |

कैंसर से बचने के उपायों की यदि हम बात करें तो इनमे ऐसे उपाय सम्मिलित होंगे जिनसे कैंसर जैसी खतरनाक एवं जानलेवा बीमारी के होने के कारणों का पता चलता है | अर्थात कहने का आशय यह है की जिन कारणों से किसी भी प्रकार का कोई कैंसर चाहे वह त्वचा कैंसर हो, फेफड़ो का कैंसर हो, स्तन कैंसर हो, रक्त कैंसर हो या फिर कोलन कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है उन्हीं कारणों को अपनी जीवन पद्यति का हिस्सा न बनाना कैंसर से बचने के उपायों की लिस्ट में सम्मिलित हैं | जैसा की हम सबको विदित है की कैंसर नामक यह रोग बेहद भयावह एवं खतरनाक होता है लेकिन फिर भी इस भयावह स्थिति से बचा जा सकता है तो आइये आज हम अपने इस लेख ‘’कैंसर से बचने के उपाय’’ के माध्यम से जानने की कोशिश करेंगे ऐसे ही कुछ तरीकों के बारे में जिन्हें अपनाकर या छोड़कर कैंसर के रिस्क को कुछ हद तक कम किया जा सकता है | तम्बाकू का सेवन बंद करें (Stop Smoking): चाहे हम किसी भी प्रकार के कैंसर के कारणों पर नज़र डालें लेकिन धुम्रपान एक ऐसा कारक है जो लगभग हर प्रकार के कैंसर का कारण माना
Read More

Computer tomography Scan (सी.टी. स्कैन)

Computer tomography Scan को साधारण बोलचाल की भाषा में CT scan के नाम से जाना जाता है | इस जांच के माध्यम से चिकित्सक द्वारा मानव शरीर के विभिन्न हिस्सों के चित्र देखकर उनमे उपलब्ध कमियों या आसाधारण चीजों का पता लगाया जाता है | जिस व्यक्ति का Computer tomography Scan test होना होता है उसकी बाजू के नस में थोड़ी बहुत मात्रा में डाई डाली जा सकती है जो कुछ दिनों में अपने आप शरीर से बाहर निकल जाती है | जिस व्यक्ति का यह परीक्षण हो रहा होता है यदि उसे दवाइयों, भोजन इत्यादि से एलर्जी है तो यह बात व्यक्ति को स्टाफ को बतानी चाहिए | यदि कोई महिला गर्भवती हैं तो जांच से पूर्व यह बात चिकित्सक या सम्बंधित स्टाफ को बतानी चाहिए | शरीर के जिस भी हिस्से का Computer tomography Scan होना है एक हिस्से के स्कैन में 15-20 मिनट का समय लग सकता है | How to be ready for CT scan: यद्यपि CT Scan नामक इस जांच के लिए तैयार होने में कुछ विशेष तैयारियों की आवश्यकता होती नहीं है लेकिन कुछ प्रमुख सावधानियां निम्न हैं | इस परीक्षण के लगभग 4 घंटे पूर्व से व्यक्ति को कुछ खाना पीना नहीं
Read More

Colonoscopy Test

Colonoscopy test को चिकित्सकों द्वारा बड़ी आंत की जांच करने के उद्देश्य से अंजाम तक पहुँचाया जाता है बड़ी आंत के कैंसर का पता भी इस जांच के माध्यम से किया जा सकता है | इस जांच को पूर्ण रूप से अंजाम तक पहुँचाने के लिए चिकत्सकों द्वारा एक पतली नली Scope का प्रयोग किया जाता है जिसे प्रभावित व्यक्ति या महिला के मलाशय में रखा जाता है और यह स्कोप लचीला होता है जिसे बड़ी आंत में भेजा जाता है | इसी नली अर्थात स्कोप के माध्यम से चिकित्सक बड़ी आंत के अन्दर देख पाने में सक्षम होता है | और उसके बाद चिकित्सक द्वारा छोटी सी कोशिका का एक सैंपल लिया जा सकता है जिसे Biopsy के लिए भेजा जा सकेगा | Colonoscopy test के लिए अस्पताल आ रहे व्यक्ति को चाहिए की वह अपने साथ किसी मित्र या घर के सदस्य को लेके आये जो जांच के व्यक्ति को घर तक ले जायेगा क्योंकि इस Colonoscopy test के बाद व्यक्ति के लिए वाहन चलाना घातक सिद्ध हो सकता है | How to be ready for Colonoscopy test in hindi: Colonoscopy test के लिए तैयार होने के लिए चिकित्सक द्वारा मरीज को कुछ हिदायतें एवं दवाओं का
Read More

Colposcopy Test – योनिभित्तिदर्शन जांच

Colposcopy को हिन्दी में योनिभित्तिदर्शन भी कहा जाता है यह Test महिलाओं की योनि एवं Cervix अर्थात गर्भाशय ग्रीवा में असमान्य कोशाणुओं यानिकी ऐसी कोशिकाएं जो अनियंत्रित गति से बढती जा रही हों के जांच के लिए किया जाता है | हालांकि Colposcopy नामक इस जांच से पहले चिकित्सक द्वारा pap smear नामक जांच के लिए कहा जा सकता है और यदि इस जांच में कुछ ऐसी कोशिकाएं पकड़ में आती हैं तो डॉक्टर और स्पष्ट करने के लिए  Colposcopy test के लिए परामर्शित कर सकते हैं | कोल्पोस्कोपी नामक इस जांच में चिकित्सक द्वारा महिला की योनि एवं सर्विक्स में अनियंत्रित गति से बढ़ने वाले असमान्य कोशिकाओं की जांच करने के लिए Magnifying Scope का प्रयोग किया जा सकता है | कोशिकाओं के सैंपल निकालने की क्रिया जिसे बायोप्सी कहा जाता है को अंजाम दिया जा सकता है और सैंपल को जांच के लिए प्रयोगशाला में भेजा जा सकता है | How to be ready for Colposcopy test in hindi: हालांकि इस जांच में खास तैयारियों की आवश्यकता होती नहीं है लेकिन इसके बावजूद इस टेस्ट के लिए जा रही महिलाओं को कुछ बातों का ध्यान रखना पड़ता है | Colposcopy Test में 15 से 20 मिनट तक
Read More

Bone Scan – हड्डियों की जांच

Bone Scan को हिन्दी में हड्डियों का स्कैन कह सकते हैं यह एक Test अर्थात जांच है जिसमें रेडियो धर्मी Contrast की बहुत कम मात्रा का उपयोग किया जाता है | इस दवाई के माध्यम से चिकित्सक मरीज की हड्डियों की जांच एक्स रे की तुलना में बहुत अच्छे ढंग से कर सकता है | इस Bone Scan नामक Test को चिकित्सकों द्वारा दो हिस्सों में पूर्ण किया जाता है | इसलिए जिस व्यक्ति का Bone Scan Test होना हो उसे चाहिए की डॉक्टर द्वारा बताये गए समयनुसार वह टाइम से जांच कराने पहुंचे | Bone Scan Test से पहले क्या करें? Bone Scan test करवाने से पहले निम्न बातों पर ध्यान दें | जैसा की हम पहले भी बता चुके हैं इस जांच के दो हिस्से होते हैं इसलिए चिकित्सक अलग अलग हिस्से में जांच करने के लिए मरीज को अलग अलग समय पर बुला सकते हैं | इसलिए मरीज को चाहिए की वह डॉक्टर द्वारा दिए गए समय का अनुसरण करे | यदि किसी व्यक्ति को दवाइयां खाने इत्यादि से कोई एलर्जी होती है तो मरीज को चाहिए की वह यह बात चिकित्सक या समबन्धित स्टाफ को निःसंकोच बताये | यदि मरीज महिला हैं, गर्भवती हैं या
Read More