Lung Cancer – फेफड़ों का कैंसर |

Lung Cancer को हिन्दी में फेफड़ों का कैंसर भी कह सकते हैं | फेफड़े शरीर में वे अंग होते हैं जो प्राणी को श्वास लेने में सहायता प्रदान करते हैं। फेफड़े प्राणीमात्र के शरीर के सभी कोषाणुओं/कोशिकाओं को ऑक्सीजन प्रदान करने में सहायक होते हैं | जैसा की अन्य कैंसर जैसे स्तन कैंसर इत्यादि में होता है Lung Cancer में भी फेफड़े में असमान्य कोषाणु (abnormal cells) बनना शुरू हो जाते हैं जो की स्वस्थ कोषाणुओं यानिकी Normal Cells के मुकाबले अधिक तेज गति से पैदा एवं बढ़ते भी हैं | इनमें बहुत सारे कैंसर कोषाणु ऐसे होते हैं जो मिलकर ऐसी संरचना विकसित करते है जिससे गाँठ सी बन जाती है , जिसे ट्यूमर कहा जाता है। Lung Cancer तब होता है, जब फेफड़ों में शामिल कोषाणु परिवर्तित एवं अनियंत्रित होकर असामान्य बन जाते हैं । Lung Cancer यानिकी फेफड़ों के कैंसर के कोषाणु रक्त अथवा लसीका (लिम्पा) प्रणाली के माध्यम से  शरीर के अन्य क्षेत्रों में या अन्य अंगों तक जा सकते हैं, जिससे शरीर के अन्य अंगों का भी कैंसर की चपेट में आने का खतरा बढ़ जाता है | कैंसर के इस फैलने की प्रक्रिया को विक्षेपण या Metastasis कहा जाता है | Cause of
Read More

Breast Cancer Treatment and Symptoms

Breast Cancer यानिकी स्तन कैंसर महिलाओं से जुड़ा हुआ एक बेहद खतरनाक रोग है | भारत वर्ष में यदि हम Breast Cancer की बात करें तो एक आंकड़े के मुताबिक वर्ष 2015 में स्तन कैंसर से जुड़े हुए 155000 नए मामले सामने आने के आसार लगाये जा रहे थे जिसमे से इस खतरनाक बीमारी से मरने वाली महिलाओं की संख्या 76000 आंकी गई थी जो लगभग कुल प्रभावित महिलाओं की संख्या का 49% था | Breast Cancer नामक यह बीमारी भारतवर्ष की महिलाओं में ही नहीं अपितु विश्व के अन्य देशों की महिलाओं में भी बढती जा रही है | हालांकि इसे रोकने का कोई ख़ास तकनीक है नहीं लेकिन यदि Breast Cancer का शुरूआती दिनों में ही पता लग जाता है तो इसे पूर्ण रूप से ठीक किया जा सकता है | Breast Cancer Kya Hai: जैसा की हम पहले भी कैंसर का इतिहास कारण एवं स्टेज वाली पोस्ट में बता चुके हैं की कैंसर वाली कोशिकाएं असामान्य कोशिकाएं होती हैं। इसके अलावा Cancer Cells सामान्य Cells के मुकाबले अधिक तेजी से बढती एवं विभाजित होती हैं | यही कारण है की Cancer Cells की असमान्य प्रगति के कारण शरीर के किसी भाग में वृद्धि भी हो सकती
Read More

Cancer Symptoms (कैंसर के कुछ सामान्य लक्षण)

Cancer Symptoms पर वार्तालाप करना इसलिए बेहद जरुरी हो जाता है क्योंकि यदि समय रहते अर्थात पहली स्टेज या दूसरी स्टेज में इसका पता चल जाता है तो इसका पूर्ण रूप से इलाज हो सकता है | इसके विपरीत जितनी देर बाद इसका पता चलेगा इलाज से ठीक होने की संभावना उतनी कम होती जाती है | चूँकि Cancer Symptoms भी आम तौर पर वैसे ही होते हैं जैसे सामान्य तौर पर तबियत ख़राब हो जाती है, फर्क सिर्फ इतना है की सामान्य तबियत ख़राब होने पर मनुष्य की तबियत एक समयवधि में ठीक हो जाती है, जबकि कैंसर में ये लम्बा समय ले लेती हैं इसलिए लम्बे समय से बुखार आना जो उपचार करने के बावजूद भी ठीक नहीं हो रहा Cancer का एक लक्षण हो सकता है | इसके अलावा कैंसर होने के कुछ सामान्य लक्षण (Symptoms) निम्नवत हैं लेकिन यदि किसी व्यक्ति में ये निम्नवत लक्षण पाए जाते हैं तो यह जरुरी नहीं है की उस व्यक्ति को कैंसर ही है बल्कि इन लक्षणों के अलावा अन्य भी बहुत सारे लक्षण होते हैं जिन्हें डॉक्टर विभिन्न प्रकार के मेडिकल टेस्ट कराके इस नतीजे पर पहुँचने में सक्षम होते हैं की किसी व्यक्ति को कैंसर है या
Read More

Cancer History Cause and stages

Cancer का नाम सुनते ही सम्पूर्ण शरीर में सिहरन पैदा हो जाती है जी हाँ क्योंकि कैंसर एक जानलेवा बीमारी है | यद्यपि यह कैंसर नामक बीमारी की history बहुत पुरानी है लेकिन इस बीमारी को पहली बार कैंसर के नाम से संबोंधित करने का श्रेय ग्रीक के एक चिकित्सक Hippocrates को जाता है, जिन्हें बाद में औषधि के पिता यानिकी Father Of Medicine की संज्ञा दी गई | Hippocrates ने घाव युक्त Tumor और घाव मुक्त Tumor के लिए दो अलग अलग निबंधनो carcinos और carcinoma का  वर्णन किया  |  जहाँ ग्रीक भाषा में ये शब्द एक केकड़े को संदर्भित करते हैं, बाद में एक रोमन चिकित्सक  Celsus  ने इन ग्रीक टर्म को कैंसर के तौर पर अनुवादित किया | इसके बाद में भी ग्रीक के ही एक अन्य चिकित्सक ने Tumor को वर्णित करने के लिए Oncos शब्द का इस्तेमाल किया था जिसका अभिप्राय सूजन या फुलाव होता है | Hippocrates और Celsus की Crab analogy को malignant tumors को वर्णित करने में आज भी उपयोग में लाया जाता है जबकि Galen की टर्म को कैंसर रोग विशेषज्ञों के नाम के हिस्से के तौर पर प्रयोग में लाया जाता है | इतिहास में कैंसर का जिक्र मिलना कोई आश्चर्यजनक बात बिलकुल नहीं
Read More

Viral Fever treatment through home remedies

Viral Fever treatment के बारे में जानने से पहले इसके होने के मुख्य कारण पर एक नज़र डालते हैं | वैसे तो Fever यानिकी बुखार कभी भी किसी को भी हो सकता है, सामान्यतया Fever होने का जो मुख्य कारण होता है वह वातावरण में temperature का घटने बढ़ने का है | मौसम बदलने के कारण विभिन्न प्रकार के Infections वातावरण में फैल जाते हैं जिनसे Viral fever जैसी बीमारी किसी को भी अपने आगोश में ले सकती है | हालांकि viral fever नामक बीमारी से डॉक्टर की सलाह पर Antibiotics और कुछ और tablet, injection लेकर निबटा जा सकता है | लेकिन यदि कोई व्यक्ति डॉक्टर के पास जाने से पहले घर पर ही कुछ home remedies viral fever के लिए ढूंढ रहा है, तो आज हम आपको Viral fever से निबटने हेतु कुछ ऐसी home remedies के बारे में Information दे रहे हैं, जो सामन्यतया आपके रसोईघर में भी आसानी से उपलब्ध रहती हैं | लेकिन इन treatments पर बात करने से पहले यह जान लेते हैं की जब बुखार यानिकी Fever आता है तो व्यक्ति कैसा महसूस करता है, अर्थात Fever के symptoms कौन कौन से होते हैं | Fever Symptoms in Hindi: आमतौर पर किसी
Read More

केला एक फायदे अनेक |

जी हाँ Banana use and benefits की बात हो रही हो तो सबसे पहले हमें यह जानना जरुरी होता है की Banana को  Hindi में केला कहते हैं, और  अधिकतर लोग इसको इसलिए खाते हैं, क्योंकि उन्हें लगता है की खाने में Banana use करने से वे अपनी  Health को तंदुरुस्त अर्थात Healthy रखने में सक्षम होंगे | उनका सोचना बिलकुल सही है, लेकिन केला मनुष्य की Health सुधारने के अलावा शरीर के अन्य विकारों को भी मिटाने में काफी मदद करता है | केला यानिकी banana का use केवल खाने के तौर पर नहीं, अपितु और भी अनेकों तरह से किया जा सकता है | चूँकि आज का हमारा विषय केले के फायदे (Banana benefits) पर आधारित है, इसलिए आज हम आपको बताने वाले हैं केले के 9 अजब गज़ब उपयोग यानिकी benefits तो आइये जानते हैं Banana use and benefits के बारे में |   banana use Tension ko Kam Karta hai. आज की जीवनशैली और मनुष्य की आकांक्षाये और उन्हें पूरा करने की जद्दोजहद के कारण Tension भी मनुष्य जीवन का एक प्रमुख हिस्सा बन गया है | इसलिए यदि कोई व्यक्ति Tension में हो तो उसे केला (Banana) अवश्य खाना चाहिए, क्योकि केला आदमी को तनावमुक्त
Read More

Hair Fall Problem Treatment Tips in Hindi.

Hair problem में लोगो की जो सबसे common समस्या है वह है, Hair Fall problem अर्थात बालों का गिरना | Hair या बाल मनुष्य की सुन्दरता और Looks की प्रतीक हुआ करते हैं | Hair fall की problem की गंभीरता का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है की, बालों से रहित एक नौजवान भी बूढ़ा सा दिखने लगता है, जबकि हरे भरे बालों वाला अधिक उम्र का व्यक्ति भी कम उम्र का लगने लगता है | Hair Fall के अलावा बालों में और भी भिन्न भिन्न प्रकार की Problems होती हैं, जैसे कम उम्र में white hair, dandruff इत्यादि | लेकिन शुरुआत में ये problem छोटी होती हैं और यदि व्यक्ति इन पर तभी ध्यान दे तो इन problem को होने से रोका जा सकता है | आज हम अपने पढने वालों को बता रहे हैं बालों अर्थात hair की health बनाये रखने के कुछ शानदार Tips | नीचे दी गई home remedies में से यदि व्यक्ति किसी एक Tips का भी अनुसरण अपनी Hair problem को रोकने के लिए करता है तो hair fall problem इत्यादि से छुटकारा पाया जा सकता है |   Home remedies for Hair fall problem in Hindi: Onion Juice ya Pyaj
Read More